Pages

Wednesday, January 13, 2010

लोहरी मुबारक


आया ख़ुशी का त्यौहार है,
फसलों में भी लोहरी की बहार है,
सरसों के खेतों से मक्के के खेतों तक,
छेड़ा यह कैसा मल्हार है।

नाचो गाओ धूम मचाओ, ढोल नगाड़ों पे गिद्दा पाओ
छोटे बच्चों में रेवड़ी और मूंफली बत्वाओ
कुछ देर के लिए सब परेशानियाँ भूल जाओ
मदमस्त होकर खुशियाँ मनाओ



RGB की तरफ से सभी को लोहरी की लख लख बधाईयाँ। आशा है लोहरी का यह त्यौहार आप सभी के जीवन में नया जोश और उमंग भर देगा।

5 comments:

Rajey Sha said...

शुभकामनाएं।

निर्मला कपिला said...

लहडी पर बहुत अच्छी रचना के लिये बधाई आपको भी लोहडी की शुभकामनायें

पियूष अग्रवाल said...

बहुत बहुत शुक्रिया! :)

sanju said...

good very good happy hohri

sanju said...

happy lohri